Breaking News
BigRoz Big Roz
Home / Breaking News / यशवंत स्टेडियम में खासदार क्रीड़ा महोत्सव के दूसरे संस्करण का भारत रत्न सचिन तेंदुलकर ने किया उद्घाटन : विकास बनसोड की रिपोर्ट

यशवंत स्टेडियम में खासदार क्रीड़ा महोत्सव के दूसरे संस्करण का भारत रत्न सचिन तेंदुलकर ने किया उद्घाटन : विकास बनसोड की रिपोर्ट

नागपुर ब्यूरो : क्रिकेट के दिग्गज, भारत रत्न सचिन तेंदुलकर ने शनिवार शाम को यशवंत स्टेडियम में खासदार क्रीड़ा महोत्सव के दूसरे संस्करण का उद्घाटन किया। इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस, संरक्षक मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले, उद्घाटन समारोह में नागपुर के मेयर नंदा जिचकर मौजूद थे।

उद्घाटन समारोह के दौरान एक सांस्कृतिक, रंगारंग कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। फैज फजल की अगुवाई में विदर्भ रणजी ट्रॉफी क्रिकेट टीम का खिताब जीतने वाले तेंदुलकर को इस अवसर पर सम्मानित किया गया।

बता दें कि यशवंत स्टेडियम में खासदार क्रीड़ा महोत्सव के दूसरे संस्करण का भारत रत्न सचिन तेंदुलकर ने किया उद्घाटन। उद्घाटन के दौरान पूरा स्टेडियम सचिन- सचिन के नारों से गूंज उठा।

15-दिवसीय खेल अपव्यय में लगभग 30,000 खिलाड़ी 27 खेलों और 390 कार्यक्रमों में शीर्ष सम्मान के लिए प्रति स्पर्धियो में एक दूसरे के साथ खिताब पाने के लिए स्पर्धा होगी पूरे शहर में 40 से अधिक ग्राउंड्स में यह स्पर्धा ,खेल देखने को मिलेगा जिसमें 380 ट्रॉफी और 600 से अधिक पदक वितरित किए जाएंगे। प्रतियोगिताओं के दौरान टीमों और खिलाड़ियों के बीच कुल 72 लाख रुपये के पुरस्कार वितरित किए जाएंगे।
समारोह में सांसद विकास महात्मे, पूर्व सांसद अजय संचेती, सुलेखा कुंभारे, विधायक सुधाकर कोहले, सुधाकर देशमुख, अनिल सोले, नागो गानर, कृष्णा गोपड़े, विकास कुंभारे, गिरीश व्यास और डॉ। मिलिंद माने भी उपस्थित थे।

क्रिकेट भगवान , मास्टर ब्लास्टर और भारत रत्न सचिन तेंदुलकर ने शनिवार यशवंत स्टेडियम में आयोजित खासदार क्रीड़ा महोत्सव नागपुर 2019 के उदघाटन समारोह के अपने चाहतो ,खिलाड़ियों ,नागपुरकर को संबोधित करते हुए कहा कि असंभव से दिखने वाले और दृष्टिबाधित एथलीट असंभव को संभव बनाने वाले सबसे बड़े हमारे उदाहरण सामने हैं।

तेंदुलकर नागपुर में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के साथ खासदार क्रीड़ा महोत्सव ’की एक सभा को संबोधित कर रहे थे।

तेंदुलकर ने 1990 के दशक के एक उदाहरण का हवाला देते हुए कहा कि जब वह नेत्रहीनों के लिए क्रिकेट मैच में भाग लेते थे, तो उन्हें कहा गया कि इसे आंखे बंद करके यह क्रिकेट खेलना होगा उन्होंने कहा कि जब मैंने आंखें बंद करके खेलने की कोशिश की मगर उसे मै उन खिलाड़ियों की तरह नही कर पा रहा था।


“बहुत बार, हम कहते हैं कि यह असंभव है लेकिन असंभव शब्द यह भी कहता है कि ‘मैं संभव हूं’। विशेष रूप से विकलांग और नेत्रहीन एथलीट इसके सबसे बड़े उदाहरण हैं, ”उन्होंने कहा।

“और जब हम इन एथलीटों के साथ हम समय बिताते हैं तो हमें इसका एहसास जरूर होता है। उनके पास कितना कौशल है और कितनी अच्छी तरह से उनकी इंद्रियां काम करती हैं और हम उनसे कितना कुछ सीख सकते हैं, ”उन्होंने कहा।वो जो कर सकते है वो हमें करना भी संभव नही होगा।

तेंदुलकर ने कहा कि किसी को भी उसकी सराहना करनी चाहिए और उसमें प्रगति करनी चाहिए।
और हमेशा उनका साथ और समाज मे पूरा सन्मान उन्हें देना चाहिए।

गडकरी की इस पहल की प्रशंसा करते हुए तेंदुलकर ने कहा कि “सफलता की गारंटी कभी नहीं होती है” और कहा कि इसके लिए किसी को मानसिक तैयारी की जरूरत है, हालांकि तब भी परिणाम कभी-कभी ऐसा नहीं होता है जो कोई चाहता था।

उन्होंने कहा, ‘लेकिन यह शॉर्ट कट लेने का कारण नहीं बनना चाहिए। मैं एथलीटों को तैयारी पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहना चाहता हूं क्योंकि आप जीवन में उतार-चढ़ाव का सामना करेंगे और चीजें उस तरह से नहीं चलेंगी जैसा आप चाहते थे। ”

“कभी-कभी रेफरी का निर्णय आपके पक्ष में होता है और कभी-कभी यह आपके खिलाफ हो जाता है। लेकिन जब फैसला आपके खिलाफ हो जाता है, तो आपको इसे हसके स्वीकार करना चाहिए। और अपना दिल इस बात पर तैयार करें कि आप भविष्य में सबसे बेहतर तरीके से कैसे मुकाबला करेंगे, ”उन्होंने कहा।


रिपोर्ट : विकास बनसोड
नागपुर ब्यूरो, खबर24 एक्सप्रेस

Please follow and like us:
error189076

Check Also

दिखावा vs हकीकत, महायोगी सद्गुरु स्वामी सत्येन्द्र जी महाराज की अपील, जीवन की हक़ीक़त जानने के लिए, इसे एक बार अवश्य पढ़ें

सर में भयंकर दर्द था सो अपने परिचित केमिस्ट की दुकान से सर दर्द की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy khabar 24 Express? Please spread the word :)