Breaking News
BigRoz Big Roz
Home / Breaking News / खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है माही नदी का पानी, सैंकड़ों गांवों का संपर्क कटा, प्रशासन ने लोगों से सुरक्षित स्थान पर जाने को कहा

खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है माही नदी का पानी, सैंकड़ों गांवों का संपर्क कटा, प्रशासन ने लोगों से सुरक्षित स्थान पर जाने को कहा

राजस्थान, मध्यप्रदेश में बारिश लोगों पर कहर ढा रही है। भोपाल में आफत की बारिश से लोग घरों में कैद होकर रह गए हैं, वहीं राजस्थान के डूंगरपुर, बांसवाड़ा में बारिश कहर बनकर टूट पड़ी है।

बता दें कि डूंगरपुर जिले में बीते 24 घंटों में हुई भारी बारिश के कारण माही नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। बाढ़ की वजह से सैंकड़ों गांवों का संपर्क कट गया है। वहीं प्रशासन ने सभी अधिकारियों से लेकर थाना प्रभारियों को अलर्ट जारी कर दिया है। आपदा की स्थिति को देखते हुए उदयपुर रेंज आईजी कार्यालय एवं जयपुर से एक-एक एसडीआरएफ की टीम बुलाई गई है। जो वहां से रवाना भी हो गई है। जिले में सर्वाधिक बरसात बागीदौरा में पांच इंच दर्ज की गई है। कई गांवों का एक-दूसरे से संपर्क कट गया है। पिछले 20 दिनों से बेणेश्वर धाम टापू में तब्दील हैं। मध्यप्रदेश में लागातार बारिश से पानी की आवक पर माही नदी पर बांध के सभी 16 गेट खोल दिए गए हैं। इसमें 14 गेट छह मीटर तक खोल दिए जाने के बाद बांसवाड़ा-उदयपुर मार्ग पर आवागमन बाधित हो गया है। लसाड़ा पुल के ऊपर से पर पानी बह रहा है।


इस पुल का निर्माण 50 से 60 वर्ष पहले हुआ था हर साल की भांति इस साल भी पुल के ऊपर 7 से 8 फीट ऊपर पानी भ रहा है।

डूंगरपुर बांसवाड़ा जिले को मिलाने वाला यह मुख्य राजमार्ग होने की वजह से इस पर भारी-भरकम वाहनों का तांता लगा रहता है और इस वजह से इस पर कभी भी बड़ा हादसा होने का अंदेशा है बना हुआ है। एतियातन इस पुल को फिलहाल के लिए बन्द कर दिया गया है।

वहीं गलियाकोट में प्रशासन की तरफ से गांव खाली करवाने का अनाउंसमेंट करवाया जा रहा है। पूरे डूंगरपुर बांसवाड़ा में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है। माही नदी के किनारे के पास के गांवों में पानी बह रहा है। प्रशासन इस बाढ़ से निपटने की है मुमकिन कोशिश कर रहा है।

राजस्थान से खबर 24 एक्सप्रेस के लिए जगदीश की तेली की रिपोर्ट

Please follow and like us:
error189076

Check Also

दिखावा vs हकीकत, महायोगी सद्गुरु स्वामी सत्येन्द्र जी महाराज की अपील, जीवन की हक़ीक़त जानने के लिए, इसे एक बार अवश्य पढ़ें

सर में भयंकर दर्द था सो अपने परिचित केमिस्ट की दुकान से सर दर्द की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy khabar 24 Express? Please spread the word :)