Breaking News
BigRoz Big Roz
Home / Breaking News / 57 वर्ष की आयु में मुग्दर घुमाने का अपने ही वर्ल्ड रिकॉर्ड को तोड़कर बनाया स्टील के चार गिलास के ऊपर खड़ा होकर 3 मिंट यानी कि 180 सेकेंड में 262 बार दोनों हाथ से घुमाते हुए नया वर्तमान विश्व रिकॉर्ड-वतर्मान में विश्व चैम्पियन है महायोगी स्वामी सत्येन्द्र सत्यसाहिब जी,,,

57 वर्ष की आयु में मुग्दर घुमाने का अपने ही वर्ल्ड रिकॉर्ड को तोड़कर बनाया स्टील के चार गिलास के ऊपर खड़ा होकर 3 मिंट यानी कि 180 सेकेंड में 262 बार दोनों हाथ से घुमाते हुए नया वर्तमान विश्व रिकॉर्ड-वतर्मान में विश्व चैम्पियन है महायोगी स्वामी सत्येन्द्र सत्यसाहिब जी,,,

स्वामी सत्येन्द्र सत्यसाहिब जी ने प्राचीन भारतीय व्यायाम पद्धति की एक उत्तम कला मुग्दर जिन्हें मुग़री या pfsseclubs,jorighumana, जोड़ी व्यायाम,मुगदर,जोड़ी घुमाना,mugdar,jodighumana,करलाकत्ताई,karlakattai,jorivyayam,indianclubs आदि अनेक नामों से सारे देश में जाना जाता है।उसके प्रचार को जनसाधारण में अपने अनेक शिष्यों को सिखाते हुए अपने आश्रम सत्य ॐ सिद्धाश्रम बुलन्दशहर (उत्तर प्रदेश) से लगे हुए है।स्वामी जी 1995 से अपने आश्रम में ही लगातार बने रहकर उससे बाहर कहीं नहीं गए है।इससे पूर्व वो अपने गांव चांगोली (कस्बा ककोड़-जिला- गौतमबुद्धनगर) आदि जाते थे,फिर 1995 से सभी जगहां जाना बंद कर दिया।फिर वे वहीं आश्रम में ही रहते हुए अनेक प्राचीन योग रहस्यों को प्रचार माध्यमों से प्रसारित करते रहते है।उसी के अंतर्गत ये मुग्दर कला का प्रसार प्रचार भी कर रहे है।

वैसे तो प्राचीन काल से ही मुग्दर की देश मे भारी वजन से उठाने की प्रतियोगिता तो होती रहती है,पर किसी वजन विशेष के मुग्दर के साथ किसी एक ही तरीके से उसे कम से कम समय में अधिक संख्या में घुमाने का रिकॉर्ड बनाने का कोई विश्व रिकॉर्ड नहीं है ओर नाही किसी का इसको विश्व स्तर पर प्रचारित करने का विशेष प्रयास है,ये मुग्दर कला केवल एक दो तरीके से घुमाने की कला के साथ प्रचलित देशी कुश्ती के अखाड़ों में छोटे से स्तर पर बनी हुई लुप्तप्राय बनी है।यो इस भारतीय प्राचीन मुग्दर कला को फिर से पुर्नजीवित करते हुए अपनी मुग्दर घूमने की एक कला के माध्यम से 1 मिंट 52 सेकेंड के अंदर 106 मुग्दर घुमाने का विश्व रिकॉर्ड बनाया था और भारत में विश्व चैम्पियनशिप को खड़ा किया है ओर इस विश्व रिकॉर्ड की अपनी ही परम्परा को बरकरार रखते है,आज 16 अक्टूबर 2020 को सत्य ॐ सिद्धाश्रम बुलन्दशहर में स्टील के खाली गिलासों के ऊपर दोनों पैरों से खड़े होकर बेलेंस बनाते हुए मुग्दर को 3 मिंट यानी कि 180 सेकेंड में 262 बार दोनों हाथ से घुमाते हुए ये न्यू विश्व रिकॉर्ड 16 अक्टूबर 2020 शुक्रवार की दोपहर को बनाया है। इस प्रकार से इस 3 मिंट यानी कि 180 सेकेंड में 262 बार मुग्दर घुमाने के टाइमिंग रेशों को देखें तो- 50 मुग्दर घुमाएं 34 सेकेंड में इसी रिदम में अगले 1 मिंट 07 सेकेंड में 100 बार मुग्दर घुमाया व इसी रिदम में 1 मिंट 07 में अगले 100 मुग्दर घुमाएं इससे अगले शेष बचे 62 मुग्दरो को :36 सेकेंड में घुमाते हुए ये विश्व रिकॉर्ड बनाया है।

और साथ ही पहली बार इंस्टाग्राम पर ऑनलाइन “ऑल इंडिया मुग्दर प्रतियोगिता 2020” कराई है।जिसमे अभी 14 नवम्बर 2020 दीपावली तक भाग लेने की अंतिम तिथि है।
स्वामी जी ने 57 साल की उम्र में पुनः अपना ही पूर्व विश्व रिकॉर्ड तोड़कर ये नया स्टील के चार खाली गिलासों पर खड़े होकर दोनों हाथों से 10 किलो के मुग्दर को 3 मिंट यानी कि 180 सेकेंड में 262 बार दोनों हाथ से घुमाते हुए ये न्यू विश्व रिकॉर्ड 16 अक्टूबर 2020 शुक्रवार की दोपहर को बनाया है ओर पूर्व की भांति ही मुग्दर के विश्व चैम्पियन बने है और वैसे तो सन 11 जनवरी 2020 को पीछले समय में भी कांच के चार गिलासों पर खड़े होकर एक कला तरीके से मुग्दर घुमाने का विश्व रिकॉर्ड बना चुके है।यो स्वामी जी इस कला के अनेक तरीके से घुमाने के साथ विश्व रिकॉर्ड बनाने का प्रयास करते हुए अपने देश भारत का नाम विश्व चेम्पियन बनकर विश्व भर में प्रसिद्ध कर रहें है और इस मुग्दर कला को अनेक शिष्यों को सही तरीके से सिखाते हुए समाज मे स्वास्थ लाभ को प्रेरित कर रहें है।

जय सत्य ॐ सिद्धायै नमः
Www.satyasmeemission.org

Please follow and like us:

Check Also

“तिरंगा झंडा का सम्मान तब तक नही करुँगी जब तक मुझे कश्मीर का झण्डा वापस नही दोगे”- महबूबा मुफ्ती

बीते 24 अक्टूबर को पीडीपी के जम्मू कश्मीर के गांधी नगर दफ्तर पर सिख युवकों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy khabar 24 Express? Please spread the word :)