Breaking News
BigRoz Big Roz
Home / Breaking News / विश्व बाल श्रम निषेध दिवस World Day Against Child Labour 12 जून पर ज्ञान कविता

विश्व बाल श्रम निषेध दिवस World Day Against Child Labour 12 जून पर ज्ञान कविता

12 जून विश्व बाल श्रम निषेध दिवस World Day Against Child Labour पर सत्यास्मि मिशन की ओर से स्वामी सत्येन्द्र सत्यसाहिब जी का अपनी ज्ञान कविता के माध्यम से जन संदेश इस प्रकार से है कि

विश्व बाल श्रम निषेध दिवस की शुरुआत ‘अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन’ यानी ILOद्वारा वर्ष 2002 में की गई थी।
इस दिवस के आयोजन का मुख्य उद्धेश्य बाल श्रम की विश्व स्तर पर स्थिति क्या व केसी है,इस विषय पर ध्यान केंद्रित करना तथा बाल श्रम को पूरी तरह से समाप्त करने के लिये आवश्यक प्रयास करना है।
प्रत्येक वर्ष 12 जून को विश्व में बाल श्रमिकों की दुर्दशा को उजागर करने के लिये सभी सरकारों, नियोक्ताओं और श्रमिक संगठनों तथा नागरिक समाज के साथ-साथ विश्व भर के लाखों लोगों को एक साथ लाने के लिये इस दिवस का आयोजन किया जाता है।

12 जून विश्व बाल्य श्रम निषेध दिवस पर स्वामी सत्येन्द्र सत्यसाहिब जी की प्रज्ञान कविता

12 जून विश्व बाल श्रम निषेध दिवस पर सत्यास्मि मिशन की ओर से स्वामी सत्येन्द्र सत्यसाहिब जी का अपनी ज्ञान कविता के माध्यम से जन संदेश इस प्रकार से है कि

आज बाल श्रम निषेध दिवस है
इस पर ये जन है संदेश।
सोचो इन बाल्य भविष्य कुछ
और करो अवश्य इन बाल्य निवेश।।
अल्पायु हाथ में बीड़ी
और चुगते बीनते कचरा।
सुबह दोपहर साय रात्रि
गाली भर मुख विचरें विचरा।।
ईंट उठाते महनत करते
काम करते संग माँ बाप।
गाली खाते पर मिलता नहीं
श्रम शुल्क इन बाल्य श्रमिकों को नाप।।
न्यायिक नियम बने अवश्य है
पर चलित समाज हो कैसे।
निर्धनता की बंधी डोर है
उसे काट निकले ये कैसे।।
सरकार सहित सामाजिक संगठन
कर रहे इनका कल्याण।
पर बहुत अधिक है जनसंख्यां इनकी
अल्प पडता फल इन झोली दान।।
समस्या बड़ी है इनके परिजन
वे इन्हें बनाते श्रम है साधन।
कितना कर लो पर थोडा पड़ता है
इनके सुधार सहाय में बाधन।।
यो आवश्यकता है आज इन्हें
जहाँ ये कारज करते।
वही आश्रय दे अपनी इन
अतिरिक्त सहायता करते।।
ना करने से तो अच्छा है
जितना बने अवश्य करो।
ये करना भी हो सफल एक दिन
निज कर्म से मनुष्यता इनमें भरो।।
खोने मत दो बालपन
ना खोने दो मुस्कान।
इन्हीं में कहीं छिपा है
वो भविष्य का भगवान।।
यदि ये मुरझा गये
खिलने से पहले पुष्प।
तो सुगंधहीन पवन चले
कल भविष्य उद्यान पुष्प।।
खेलने दो पढ़ने दो
और बनो इनके साहयक।
अवश्य करो इनके लिए
जो बने बनकर शुभ वाहक।।
बाल्य श्रम निषेध दिवस पर
इन बाल्यों को दो कुछ उपहार।
बहुत नही तो थोडा सही
पर देना स्नेह कुछ प्यार।।

जय सत्य ॐ सिद्धायै नमः
स्वामी सत्येन्द्र सत्यसाहिब जी
Www.satyasmeemission.org

Please follow and like us:

Check Also

राजस्‍थान में लगा लॉकडाउन 19 अप्रैल से 3 मई तक रियायतों के साथ ‘तालाबंदी’, जानिए क्या रहेगा बंद और कहां मिलेगी छूट : हरिमोहन राठौड़ की रिपोर्ट

राजस्थान (Rajasthan) में 19 अप्रैल सुबह 5 से 3 मई की सुबह 5 बजे तक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy khabar 24 Express? Please spread the word :)