Breaking News
BigRoz Big Roz
Home / Breaking News / कुम्भ मेले में आग, चपेट में आये कई टैंट, लाखों के नुकसान का अनुमान : देखें वीडियो

कुम्भ मेले में आग, चपेट में आये कई टैंट, लाखों के नुकसान का अनुमान : देखें वीडियो


“अभी-अभी कुम्भ मेले से आग लगने की बड़ी खबर आ रही है। बताया जा रहा है कि दिगंबर अखाड़े में गैस सिलेंडर फटने से आग लग गयी, जिसके बाद आसपास के टैंटों में भी आग फैल गयी। आग लगने से कई टैंट स्वाहा हो गए।”

प्रयागराज कुम्भ से एक बड़ी खबर आ रही है जहां दिगंबर अखाड़े में आग लग गयी है। आग लगने के कारण सिलेंडर फटने को बताया जा रहा है जिसके बाद आग ने आसपास के टैंटों को भी अपना निशाना बना लिया।

जिस स्थान पर आग लगी है वहां बड़ी संख्या में भीड मौजूद थी। कल यानि मंगलवार 15 जनवरी से शाही स्नान शुरू हो रहे हैं। कुम्भ प्रयागराज में लाखों की संख्या में साधु संत जमा हो रहे हैं। साथ ही लाखों लोगों का भी आना शुरू हो गया है। कुल मिलाकर 1 करोड़ से ज्यादा लोगों के जुटने का अंदाजा लगाया जा रहा है।

बता दें कि आज सुबह सेक्टर 16 में स्थित दिगंबर अखाड़े में आग लग गई। जिसकी सूचना मिलते ही दमकल की कई गाड़ियां मौके पर पहुंच गई। फिलहाल आग पर काबू पा लिया गया है। आग ने मेला क्षेत्र के कई तंबूओं को चपेट में ले लिया है।

आग लगने का कारण 2 गैस सिलेंडरों में हुआ विस्फोट बताया जा रहा है। फिलहाल प्रशासन की कई टीमें मौके पर मौजूद हैं। इस घटना में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। प्रशासनिक अधिकारी आग से हुए नुकसान के बारे में जानकारी ले रहे हैं।

कुंभ मेला अधिकारी विजय किरण आनंद ने बताया कि छह-सात तंबुओं में आग लगी थी। प्रशासन को नए तंबुओं के लिए सामान देने का आदेश दे दिया गया है। नए तंबू कुम्भ मेला शुरू होने से पहले तैयार हो जाएंगे।

उन्होंने घटना स्थल का मुआयना किया और अपराह्न पौने एक बजे लगी आग के कारण हुई हानि के संबंध में साधु संतों से पूछा। हादसे में साधु-संतों की दो कारों को भी क्षति पहुंची है।

आपको बता दें कि करोड़ों लोग इस महाकुंभ में आस्था की डुबकी लगाएंगे और इस मेले का हिस्सा बनेंगे। देश दुनिया से लोगों का जुटना शुरू हो गया है, प्रयागराज में जबरदस्त भीड़ देखने को मिल रही है। पुलिस ने सुरक्षा का चाक चौबंद इंतजाम किया है लेकिन यह आग सुरक्षा में एक बड़ी चूक मानी जा रही है।


खबर 24 एक्सप्रेस

Please follow and like us:
189076

Check Also

क्यों मनाते हैं अक्षय तृतीया, क्या है इससे जुड़ा धार्मिक इतिहास? इससे सम्बंधित मान्यताओ के विषय मे बता रहे हैं स्वामी सत्येंद्र सत्यसाहिब

इस तिथि को अक्षय तृतीया यानी जिस तिथि का कभी क्षय या समापन नहीं हो,यो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enjoy khabar 24 Express? Please spread the word :)