Breaking News
BigRoz Big Roz
Home / Breaking News / लेडी सिंघम, दबंग छवि वाली डीएम बी. चंद्रकला की बढ़ी मुसीबतें, कहाँ से आई इतनी संपत्ति? क्यों बढ़ी मुश्किलें? जाने सब

लेडी सिंघम, दबंग छवि वाली डीएम बी. चंद्रकला की बढ़ी मुसीबतें, कहाँ से आई इतनी संपत्ति? क्यों बढ़ी मुश्किलें? जाने सब




सोशल मीडिया में बहुत ज्यादा सक्रिय रहने वाली, अपनी दबंग छवि के लिए जाने जाने वाली आईएएस बी. चंद्रकला इन दिनों मुसीबत में हैं। लेडी सिंघम कहे जाने वाली बी. चंद्रकला से अधिकारी भी कांपते थे और आज बी. चंद्रकला खुद शक और जांच के दायरे में हैं।



यूपी के कई जिलों में डीएम रही बी. चंद्रकला की समाजवादी पार्टी से खासी नज़दीकी भी चर्चा का विषय रही थी। यूपी के अच्छे जिलों में पोस्टिंग पा चुकी बी. चंद्रकला के आवास समेत 12 जगहों पर सीबीआई ने छापेमारी की है।

सीबीआई ने जो छापेमारी की है वो है अवैध खनन के मामले में लो गयी रिश्वत, भूमाफियाओं को फायदा पहुंचाने, व गलत तरीके से खनन आवंटन के आरोप।
इन्हीं आरोपों के चलते सीबीआई ने लखनऊ स्थित आवास समेत 12 जगहों पर छापे मारे की है। यह कार्रवाई 2012 हमीरपुर खनन घोटाले के मामले में की गई। सीबीआई टीम ने आईएएस अफसर के एक लॉकर और दो बैंक खाते सीज कर दिए हैं। वर्तमान में चंद्रकला की पोस्टिंग दिल्ली में है।

बता दें कि अखिलेश यादव की सरकार में IAS बी. चंद्रकला की पोस्टिंग पहली बार हमीरपुर जिले में जिलाधिकारी के पद पर की गई थी। आरोप है कि इस दौरान चंद्रकला ने जुलाई 2012 के बाद हमीरपुर जिले में 60 मौरंग के खनन के पट्टे दिए थे। जबकि ई-टेंडर के जरिए मौरंग के पट्टों पर मंजूरी देने का प्रावधान था, जिसकी अनदेखी की गई थी।

जानकारी के अनुसार, वर्ष 2015 में मौरंग खनन के इन पट्टों को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई। हाईकोर्ट ने 16 अक्तूबर 2015 को पट्टे अवैध घोषित कर रद्द कर दिए थे।
याचिका लगाने वाले विजय द्विवेदी ने हाईकोर्ट में कहा कि मौरंग खदानों पर रोक के बाद भी अवैध खनन किया गया। तब 28 जुलाई 2016 को सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने अवैध खनन की जांच सीबीआई को सौंप दी थी।
सीबीआई ने इस मामले में 11 सरकारी और कई प्राइवेट लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। CBI ने शनिवार को चंद्रकला के आवास के अलावा सीबीआई ने लखनऊ, नोएडा, हमीरपुर, जालौन और कानपुर में बसपा और सपा नेताओं के घर पर भी छापे मारे।



“साल 2017 में IAS बी. चंद्रकला अपनी संपत्ति का ब्योरा देने में डिफॉल्टर साबित हुई थीं। दरअसल, सिविल सेवा अधिकारियों को 2014 के लिए 15 जनवरी 2015 तक अपनी संपत्ति का रिकॉर्ड पेश करना था। लेकिन एक साल बीतने के बाद भी इन अधिकारियों ने अपनी संपत्ति का ब्योरा नहीं दिया था। चंदकला का नाम भी इसमें शामिल था।”



रिपोर्ट्स के मुताबिक, आईएएस अफसर के साथ आदिल खान, तत्कालीन खनन अधिकारी मोइनुद्दीन, समाजवादी पार्टी (सपा) एमएलसी रमेश मिश्रा व उनके भाई, खनन क्लर्क राम आश्रय प्रजापति, अंबिका तिवारी (हमीरपुर), खनन क्लर्क राम अवतार सिंह और उनके भाई व संजय दीक्षित इस मामले में आरोपी हैं। सीबीआई सूत्रों के मुताबिक, साल 2012-13 में अखिलेश खनन मंत्री थे। उस दौरान जो भी मंत्री थे, उनकी भूमिका की भी जांच होगी। सपा नेता 2012-17 तक यूपी के सीएम रहे।

बी. चंद्रकला का जन्म तेलंगाना के करीमनगर जिले में हुआ था। वह 2008 बैच की यूपी कैडर की IAS हैं।

बी. चंद्रकला अपनी दबंग छवि के कारण रही हैं चर्चा में :

बी. चंद्रकला को यूपी वाले लेडी सिंघम के नाम से जानते हैं इनकी दबंग छवि चर्चा का कारण रही है। साथ ही बी. चंद्रकला सोशल मीडिया में बहुत ज्यादा सक्रिय रहती हैं। अपने कार्यों का बखान अपने फेसबुक पेज, प्रोफाइल और ट्विटर पर करती रहती हैं।

पत्रकारों से लेकर अधिकारियों तक को धमकाने के आरोप बी. चंद्रकला पर लगे हैं। अपने सख्त तेवर, मातहत अधिकारियों को सरेआम फटकारने और बयानों को लेकर चर्चा में रहती हैं।

बुलंदशहर की डीएम रहते हुए बी चंद्रकला ने सबसे ज्यादा सुर्खियां बटोरीं थीं। अपने दबंग तेवरों और बयानों की वजह से उन्हें लेडी सिंघम भी कहा जाने लगा था। कई बार उनके बयान विवाद की वजह भी बन चुके हैं।
IAS बी. चंद्रकला 2016 में बुलंदशहर की डीएम थीं। उस वक्त उन्होंने 18 साल के एक लड़के को इसलिए जेल भिजवा दिया था क्योंकि उसने बिना उनसे पूछे या अनुमति लिए उनके साथ फोटो क्लिक कर ली थी। उनके ये फैसला तुरंत मीडिया की सुर्खियां बन गया। इसी खबर पर चंद्रकला का बयान लेने के लिए एक रिपोर्टर ने जब फोन किया तो, उन्होंने ऐसा रिएक्शन दिया था, पत्रकार ने जिसकी कल्पना भी नहीं की थी। बी. चंद्रकला ने धमकी भरे लहजे में पत्रकार से कहा कि उसके घर अनजान मर्दों को भेजकर मां-बहन या उसकी मिसेज की फोटो खिंचवाऊं। अगर तुम्हारी मां-बहन के साथ कोई अनजान मर्द फोटो खिंचवाएगा तो क्या खींचने दोगे? हालांकि बयान वायरल होने पर डीएम साहिबा ने इस बातचीत को गलत बताया था।

बुलंदशहर में डीएम रहते हुए बी. चंद्रकला शहर में विकास कार्यों का जायजा ले रहीं थीं। इस दौरान उन्होंने एक जगह सड़क किनारे बिछाई जा रही टाइल्स का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्हें काम की गुणवत्ता सही नहीं मिली। इस पर सड़क पर ही उन्होंने नगरपालिका चेयरमैन और वहां मौजूद अफसरों को जनता और मीडिया के सामने जमकर लताड़ लगाई। उन्होंने अधिकारियों को धमकाते हुए कहा ‘ऐसी टाइल्स लगवा रहे हो। तुम्हारी तनख्वाह से लूंगी पूरा पैसा। शर्म करो शर्म… जनता का पैसा है ये’। अफसरों को हड़काते हुए उनका ये वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था।

17 दिसंबर 2014 को भी बुलंदशहर डीएम रहते हुए बी. चंद्रकला विकास कार्यों का निरीक्षण कर रहीं थीं। इस दौरान भी उन्हें एक जगह पर चल रहे विकास कार्य में कमी मिली थी। उस वक्त भी उन्होंने मौके पर मौजूद अधिकारियों को लापरवाही बरतने पर सरेआम जमकर फटकार लगी थी। उन्होंने सार्वजनिक तौर पर अधिकारियों को चेतावनी दी थी ‘जेल के अंदर जाओगे, अभी के अभी, समझे क्या’। उनका ये बयान भी मीडिया की सुर्खियां बना था।

बुलंदशहर की डीएम रहते हुए 12 दिसंबर 2014 को बी. चंद्रकला ने खिलाड़ियों की शिकायत पर स्टेडियम का निरीक्षण किया था। यहां उन्हें काफी गंदगी मिली थी। इस पर उन्होंने स्टेडियम की बदहाली के लिए जिम्मेदार खेल विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया था। इतना ही नहीं निरीक्षण के दौरान उन्होंने सार्वजनिक तौर पर अधिकारियों से कहा था ‘बच्चों के पास मेरा नंबर है। कुछ भी गलत हुआ तो जेल तो जरूर जाओगे’।

खैर अब खुद बी. चंद्रकला पर भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे हैं, सीबीआई के छापेमारी के बाद अभी तक बी. चन्द्रकला ने मीडिया में आकर अपनी न तो सफाई पेश की है न ही सोशल मीडिया में कोई अपडेट डाला है। इन आरोपों के चलते सभी को बी. चन्द्रकला की सफाई का इंतजार है।


ख़बर 24 एक्सप्रेस

Please follow and like us:
189076

Check Also

प्रधानमंत्री मोदी के सामने बनारस से चुनाव लड़ रहे इस बाहुबली ने छोड़ा मैदान, जेल से चुनाव लड़ रहा था यह बाहुबली

प्रधानमंत्री को बनारस से मिल रहीं प्रमुख चुनौतियों में तेज सेना के जवान तेज़ बहादुर, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enjoy khabar 24 Express? Please spread the word :)